‘अकाल और उसके बाद’

नागार्जुन की: ‘अकाल और उसके बाद’ , कविता में अकाल का भयानक चित्र है। आठ पंक्तियों में कवि ने गृहस्थ जीवन के संपूर्ण अभाव की कहानी कह दी है।

10 Malayalam अकाल और उसके बाद। (कविता)